अभिकथन

Just another weblog

20 Posts

6 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10328 postid : 111

आत्माभिव्यक्ति

Posted On: 18 Feb, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मैं एक ऐसी दुनिया मे हूँ ,
जहाँ कविता और कहानी का अंतर मिटता जा रहा है ,
जहाँ भावनाएं केवल बयान हो कर रह गयी हैं,
और छन्द केवल पंक्तियाँ बन चुके है ,
जहाँ अभिव्यक्तियां रुखी और नग्न होती जा रही है ,
जहाँ वेदनाओं से अधिक मूल्य व्याख्याओं का है ,
और व्याख्याएं बस तकनीक बन कर रह गयी है ।

मै एक ऐसी दुनिया मे हूँ ,
जहाँ तकनीक प्रकृति से दूर होती जा रही है ,
जहाँ तकनीक भावनाओं की तरह प्राकृतिक नहीं है ,
और कृतिमता महानता का पर्याय बन चुकी है ,
जहा प्रकृति पर्यटन स्थलों का उत्पाद बन चुकी है ,
और बाजार मे उसका मूल्य तय है
जो माँग के अनुसार घटता – बढ़ता है ।

” पर ” – इन सारे उलझावो में ,
जीवन की उल्टी राहो में ,
कुछ बाते अब भी सीधी है ,
कुछ बाते अब भी मीठी है,
इन बातो के मीठेपन से ,
इन राहो के सीधेपन से,
जीवन का अवकाश भरेगा ,
गीत कभी भी नहीं मरा है ,
गीत कभी भी नहीं मरेगा ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
June 28, 2014

उतकर्ष जी आप अति सुन्दर कविता लिखते हैं शोभा

    utkarshsingh के द्वारा
    July 4, 2014

    धन्यवाद शोभा जी , सकारात्मक प्रतिक्रिया हेतु आपका आभारी हूँ ।


topic of the week



latest from jagran